श्रीनगर 10 मई – जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार से घाटी में सीजफायर की मांग की है। बता दें कि कल यानी बुधवार को सीएम मुफ्ती ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी।

जिसमें सीएम मुफ्ती ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से अपील की है कि रमजान और अमरनाथ यात्रा के लिए सीजफायर का ऐलान करने की मांग की है। बुधवार को जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री मेहबूबा मुफ्ती ने राज्य में शांति व्यवस्ता कायम रखने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई थी।

जिसमें राज्य की सत्ताधारी पीडीपी और बीजेपी के अलावा कांग्रेस समेत कई दलों ने हिस्सा लिया था। आपको बता दें कि रमजान का महीना 15 मई से शुरु होने वाला है, वहीं अमरनाथ यात्रा अगस्त के आखिर में संपन्न होगी।

इसके लिए सीएम मेहबूबा मुफ्ती ने साल 2000 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की बीजेपी सरकार का उदाहरण देते हुए कहा कि वाजपेयी सरकारन ने जिस तरह से सीजफायर का ऐलान किया था।

ठीक उसी तरह घाटी में शांति बनाएं रखने के लिए केंद्र की मोदी सरकार को भी रमजान और अमराथ यात्रा के मद्देनजर सीजफायर की घोषणा करनी चाहिए। सीएम मुफ्ती ने कहा कि इस समय जिस तरह से घाटी में सेना का एनकाउंटर और सर्ज ऑपरेशन चल रहे है उससे घाटी के लोगों में असंतोष है।

सीएम मुफ्ती ने कहा कि सीजफायर के ऐलान से लोगों को कुछ राहत मिलेगी जिससे की उनकी कुछ तकलीफें कम हो सकेगी। आपको बता दें की इस समय जम्मू कश्मीर में सेना का ऑपरेशन ऑल आउट जला रखा है।

और वहीं दूसरी तरफ इलाके में पत्थरबाजों के प्रदर्शन से घाटी में जीवन अस्त-वस्त हो गया है। यही नहीं इसी पत्थरबाजी के चलते अभी हाल ही में चेन्नई के रहने वाले 22 साल के थिरूमणी की मौत हो गई थी जिसके बाद से ही कश्मीर में माहौल काफी बिगड़ चुके है।

LEAVE A REPLY