नई दिल्ली 9 मई – जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के हत्याओं के विद्वेषपूर्ण दौरे से बाहर निकलने वाले बयान पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कहा है कि उन्हें इस ‘नापाक और अवसरवादी गठबंधन’ से फौरन अलग हो जाना चाहिए.

चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री के इस ख्याल से इत्तेफाक रखता हूं कि राज्य को हत्यायों के इस विद्वेषपूर्ण दौर से बाहर निकालने के लिए राजनेता वाले नेतृत्व की जरूरत है. दुखद है कि उन्हें यह बात नजर नहीं आती कि उनकी गठबंधन (पीडीपी-बीजेपी) वाली सरकार ही इस समस्या की मुख्य वजह है.’
omar - stone
उन्होंने कहा, ‘महबूबा मुफ्ती को बीजेपी के साथ अपनी पार्टी का नापाक और अवसरवादी गठबंधन तोड़ना चाहिए और अपने पिता (मुफ़्ती मोहम्मद सईद) की सोच की तरफ वापस लौटना चाहिए.’

पूर्व गृह मंत्री ने कहा, ‘पीडीपी-बीजेपी गठबंधन कश्मीर घाटी के लोगों को सबसे ज्यादा उकसाने वाली बात है. महबूबा जी, गठबंधन तत्काल खत्म करिए और जनता के पास वापस जाइए.’

चिदंबरम ने यह भी आरोप लगाया, ‘जम्मू-कश्मीर मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार का ताकत के इस्तेमाल और सैन्यवादी रुख राज्य को मौजूदा समय के भयावह दौर की तरफ ले गया है.’

बता दें कि महबूबा ने सोमवार को केंद्र सरकार से अपील की थी कि वो राज्य को ‘हत्याओं के विद्वेषपूर्ण दौर’ से बाहर निकालने के लिए राजनेता वाला कौशल दिखाए. उन्होंने कहा था कि राज्य को इस मुश्किल दौर से बाहर निकालने में सिविल सोसाइटी की भी अहम भूमिका हो सकती है.

LEAVE A REPLY